मिट्टी से मुक्त हो जाना पेड़ के लिए आजादी नही होती

- रवीन्द्रनाथ टैगोर

टीम वन्दे मातरम्
सहायता ले
काम आपका - साथ हमारा


मेरा राष्ट्र प्रथम की भावना के साथ राष्ट्रवाद देश की एक बहुआयामी विचारधारा है | जिससे देश की आन - बान - शान, जैसे – साम्प्रदायिक एकता , सम्प्रभुता , भाषा , धर्म , संस्कृति , रीती - रिवाज़ , वेशभूषा, त्यौहार , समारोह, मेले , सामाजिक सेवा आदि का रक्षण एवं संरक्षण करना है |

  • 1. आप राजनीति से नफरत करने लगें ताकि चंद नेता देश का शासन कर सकें |
  • 2. आप देश से नफरत करने लगें और कहे कि इस देश का कुछ नहीं हो सकता है|
  • 3. आप धर्म से नफरत करने लगे और धर्म निरपेक्ष हो जाए अर्थात किसी धर्म के नहीं रहे |
  • 4. आप क्रिकेट देखे, इंटरनेट में खो जाये चाहे आपके घर में, मोहल्ले में, समाज में देश में हाहाकार मचा हो |
  • 5. जुर्म होते रहे ताकि आप रस लेकर उनकी ही बात करे |
  • 6. आप पिज़्ज़ा, बर्गर खाये और कोका कोला - पैप्सी पियें ताकि आप मानसिक और शारीरिक रूप से कमज़ोर हो जायें |
  • 7. आप सरकारी नौकरी के लालच में वर्षो बेरोजगार बैठे रहे ताकि आप किसी लायक नहीं रहे |
  • 8. आप नास्तिक बन जाये क्योकि आपका पाप और पुण्य में कोई विश्वास नहीं रहेगा और आप कुछ भी कर गुजरेंगे |
  • 9. आप लालची और भौतिकवादी हो जाये ताकि आप भ्रष्टाचार को बढ़ाने में सहायक हो |


दीनदयाल हिन्दुस्तानी

राष्ट्रीय संयोजक
बी. ए., एम. ए., एल.एल.बी.

वन्देमातरम

आज मै यहाँ सिर्फ आप लोगों के योगदान और समर्थन के लिए हूँ | मै भारत का युवा (चाहे जो उम्र हो) हूँ वो युवा जो जागरूक है जो जानता है उसे किस दिशा में और क्यों बढ़ना है | मै भारत की वो शक्ति हूँ जिससे पूरी दुनिया में क्रांति आ सकती है | मै दिल से युवा हूँ और अपने सभी साथियो को खुद में ही निर्णायक बनते देखना चाहता हूँ |

Read more

अरविन्द राज हिंदुस्तानी

राष्ट्रीय प्रवक्ता
बी .ए. ,बी.एड., एम.ए. ( दर्शनशास्त्र )

वन्देमातरम

भारत देश को आजादी के 72 वर्षो में एक उपलब्धि मिली है। कि आज वर्तमान में हर दुसरा आदमी परेशान हैं क्यों ? सभी राजनैतिक पार्टीयो के द्वारा किये गए कार्यों से आज "देश का युवा इस चिंता में डुबा हुआ है की "99 लिखने के लिए कौन सा 9 पहले लिखुँ ?

हमारे यहां अनेकों तरह के दान किए जाते रहे हैं। जैसे - कन्यादान ,गोदान ,नेत्रदान , रक्तदान , इत्यादि। लेकिन आज सोशल मीडिया पर निःशुल्क व खतरनाक तरीके से जो ज्ञान दिया जा रहा हैं। इसे "ज्ञानदान "कहते हैं। यह निःशुल्क व स्वार्थरूपेण भावना से दिया जाने वाला "ज्ञानदान " दिन -ब -दिन बढ़ता चला जा रहा हैं। इस ज्ञान -दान में जात -पात ,छुआछुत ,हिन्दू -मुस्लिम ,मंदिर -मस्जिद , धर्म की लड़ाई आदि से युवाओ का ध्यान आकर्षित किया जा रहा हैं। मुझे यह जानकर बहुत आश्चर्य होता हैं कि ये "ज्ञानदाता"इस तरह की भावना लाते कहा से हैं ?

Read more

हेमंत कुमार हिंदुस्तानी

राष्ट्रीय प्रभारी
बी बी ए , एम बी ए (रिटेल ऑपरेशन ), पी जी डी बी ए (वित्त) एम कॉम (इ ए फ एम ), एम ए (अर्थशास्त्र )

मेरे प्रिय भारतीय भाइयो और बहनों,
वन्देमातरम

मैं मेरी बात कवि के द्वारा कही इन पंक्तियों से शुरू करूँगा:

बाद मुद्दत के मिले हैं दिवाने, कहने सुनने को बहुत हैं अफसाने.
खुली हवा में जरा सांस तो ले लें, कब तक रहेगी आजादी कौन जाने.

Read more


टीम वन्दे मातरम्

Login

Need an account? Register



टीम वन्दे मातरम्


   LOGIN

Forgot Password

Need an account? Sign Up